27 मई, 2011

ब्रजेंद्र कुमार ब्रह्म


अनुसिरजक : नीरज दइया
मरवण रै नांव
सूझै कोनी हाथ नै हाथ
रात रै इण अंधियारै मांय
मरवण ! थारी-
जुगनू जैड़ी मुळक
करै म्हारै अंतस-आभै उजास
बण परभातियो तारो-
थूं कोई अणूती बात ना विचारजै
बिंयां रूप-तीरथ रो पैलो जातरी म्हैं हूं
पण इण मारग है म्हारै दांईं, केई दूजा जातरी ।

थारी निजरां
बसंत रै ओळावै बसंत भेळै
करै चरूड़ म्हारै अंतस-आंगणै मांय
अजंता, ऐलोरा रा गूंगा चितराम
तद सोचजै थूं मरवण
हियो समझै हियै रा हरफ ।

ठाह है थनै म्हारी मरवण !
थारो बसंत आलोक
प्रेरक-जोत बण सोधै-
मरुथळ री छाती दब्या हरियल बाग-बगीचा
अर थारी खिलखिलाट मांय पांगरै
अफसरा रै अरूप रूप री
रूपाळी नै बेजोड़ सोभा ।

मरवण !
थूं ठोकर में ना उडा दियै
ऐ सुपना है म्हारै काचै काळजै रा
काळजो मत बाळजै
करलै इण नै स्वीकार ।
***

कुवै रो मेढक
बाड़ी री कूंट माथै बणयै एक कुवै मांय
निसंक, बेझिझक भोगतो राजसी ठाठ-बाट
तिरिया करतो हो एक मेढक-
बो गाया करतो हो गाणो जी-भर’र
पण सुणणियो कोई कोनीं हो,
हो बो चकारियो ही
खेलण-कूदण, नाचण-गावण वास्तै
घर-गळी आंगणो स्सौ कीं उण खातर ।

कांईं कोनीं देवण खातर
कांईं कोनीं लेवण खातर
कोनी बीं रै कोई भाई-बीरो
कोनी कोई कडूंबै रो का भाइपै रो
ना तो बो किणी देस नै जाणै
ना परदेस सूं कोई साठ-गांठ ।
एक दिन पक्कायत आवैला जोरदार तूफान
धरती भेळी हुय जावैला कुवै री सींव,
भळै आवैला घणी खतरनाक बाढ
साथै लावैला अस्त-पस्त करण नै जोरदार लैहरां ।
उण दिन बो देखैला नूंवै दिन रो नूंवो परभात
सूरज काटैला अंधारो
नूंवादै चांनणै सूं चमकैला
इण दीठाव सूं सूझैला उण नै नूंवो संसार
देखैला कुवै सूं बारली असीम अनंत दुनिया ।
कोनी रैवैला कोई चावना
अर ना हुवैला कीं खोवण री गिरगिराट
कुवै रै मेंढक नांव सूं उण नै मिलैला मुगती ।
***

अनुसिरजण : नीरज दइया
   
********************************************
बोडो कवि : ब्रजेंद्र कुमार ब्रह्म जलम : 1943
केई कविता संग्रह प्रकाशित । कविता रै अलावा निंबंध लेखन पेटै ई खासो काम करियोड़ो ।
********************************************

1 टिप्पणी:

  1. परम पूजनीय महोदय , मैंने तो ऊपर देख्यो , थारलो के कह ब्लाग दिख गयो . हूँ तो पूरो ही , कुएं को मेंडक . सांत्री बात लिखी है सा , मैं ठयारो मुर्ख अग्यानी ,फेर भी आ पोथी बहुत फूटरी लागी , देन नें म्हारे कैने आशीर्वाद ही है , बो सांत्रो ल्यो सा .
    मोकली मोकली बधाई सा .
    डॉ. मुकेश राघव , बीकानेर

    उत्तर देंहटाएं